Enjoy Fabulous Discounts on Bulk Orders. Personalised Gifting for All Occasions.

Nav Durga Ji Ki Aarti - lyrics in English & Hindi

Posted By ServDharm

• 

Posted on December 21 2021

Lyrics In English

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Nav Rato Mein Nav Roopo Ki
Pooja Karte Bharti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Nav Rato Mein Nav Roopo Ki
Pooja Karte Bharti

Jo Bhi Pooje Nav Din
Durge Mata Kast Nivarti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Pratham Roop Mein Shail Putri
Him Parvat Ki Beti
Kalash Kare Sthapit
Maa Dukhade Har Leti
Nishchaye Karke Vrat Jo Rakhte
Unko Maiyya Taarti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Braham Charani Roop Dusra
Maa Tap Karne Wali
Jyotirmay Hai Bhavya Roop Hai Maa
Hast Kamandal Dhari Dhave Maa Unke Kaaj Sanvarti

Chandra Ghanta Maa Tisari Shakti
Roop Hai Mangal Kaari Mastak Chanda
Shastra Haath Mein Karti Sher Sawari
Yudh Ko Aatur Nirbhay Devi
Dusto Ko Sanhaarti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Kush Manda Maa Chauthi Maiyya
Jag Ko Rachane Wali
Andhar Mein Maa Ki Hansi
Shristi Roshan Kar Daali
Sare Jaha Ridhiya Siddhiya
Bhakt Ki Jholi Mein Daali

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Pancham Roop Skand Mata
Chaar Bhujau Wali
Vahan Iska Singh Bodh
Bhagwan Khilane Wali
Maa Ki Pooja Karta Jo Hai
Putra Ki Taraha Dularti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Katyani Maa Chhata Roop Hai
Braj Mandal Ki Devi
Roop Naa Jiska Varna Jaaye
Abhay Daan Hai Deti
Charo Phal Pooja Ke Milte
Tej Ki Hoti Prapti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Saptam Kaali Kalratri Gale Chamakti Maala
Haath Mein Maa Ke Khanda Chamake
Swaso Mein Hai Jwala
Dust Dalan Hai Karti Mata
Bhakto Ko Ubarti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Aastam Shakti Chandra Samana
Gaur Varana Maha Gauri
Swet Vastra Hai Swet Aabhushan
Bail Ki Kare Sawari
Paap Taap Santap Utari
Naiyya Paar Utarti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Nauva Roop Ek Tej Punj Hai
Naari Roop Banaya
Sabhi Shaktiya Mil Ke
Bhagwati Durga Roop Banaya
Sher Savari Saari Khusiyo
Bhakto Per Varti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Aman Kare Nit Maa Ki Pooja
Prem Se Jyot Jagaye
Jab Bhi Koi Sankat Dikhata
Maa Hi Paar Lagaye
Lakkha Ko Bin Maange Milta
Gaa Kar Maa Ki Aarti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti

Aarti Maa Aarti Nav Durga Teri Aarti
Nav Rato Mein Nav Roopo Ki
Pooja Karte Bharti

 

हिंदी में लिरिक

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
नव रातो में नव रूपो की
पूजा करते भारती

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
नव रातो में नव रूपो की
पूजा करते भारती

जो भी पूजा नव दिन
दुर्ग माता कास्ट निवर्ति

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

प्रथम रूप में शैल पुत्री
हिम पर्वत की बेटी
कलश करे स्थापना
माँ दुखड़े हर लेटिस
निश्चय करके व्रत जो रखते हैं
उन्को मैय्या तारती

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

ब्रह्म चरणी रूप दशहरा
माँ तप करने वाली
ज्योतिर्मय है भव्य रूप है मां
हस्त कमंडल धारी धवे मां उनके काज संवर्ती

चंद्र घंटा मां तिसरी शक्ति
रूप है मंगल कारी मस्तक चंदा
शास्त्र हाथ में कार्ति शेर सवारी
युद्ध को आतुर निर्भय देवी
धूलो को संहार्ति

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

कुश मांडा मां चौथी मैय्या
जग को रचने वाली
अंधेर में मां की हांसी
सृष्टि रोशन कर डाली
सारे जहां रिधिया सिद्धिया
भक्त की झोली में डाली

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

पंचम रूप स्कंद माता
चार भुजौ वली
वाहन इस्का सिंह बोधी
भगवान खिलाड़ी वली
मां की पूजा कर्ता जो है
पुत्र की तराहा दुलारती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

कात्यानी मां छटा रूप है
ब्रज मंडल की देवी
रूप ना जिस्का वर्ना जाए
अभय दान है डेट
चारो फल पूजा के मिलते
तेज की होती प्राप्ति

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
सप्तम काली कालरात्रि गले चमकती माला
हाथ में मां के खंड चमके
स्वसो में है ज्वाला
धूल डालन है कार्ति माता
भक्तो को उबरती

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

अस्तम शक्ति चंद्र समाना
गौर वर्ण महा गौरी
स्वेत वस्त्र है स्वेट भूषण
बेल की करे सवारी
पाप ताप संतप उतरी
नैय्या पार उत्तरती

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

नौवा रूप एक तेज पुंज है
नारी रूप बनाया
सबी शक्ति मिल के
भगवती दुर्गा रूप बनाया
शेर सावरी सारी खुसियो
भक्तो प्रति वार्ता

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

अमन करे नीति मां की पूजा
प्रेम से ज्योत जगाये
जब भी कोई संकट दिखत:
माँ ही पार लगाये
लक्खा को बिन मांगे मिला
गा कर मां की आरती

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती

आरती माँ आरती नव दुर्गा तेरी आरती
नव रातो में नव रूपो की
पूजा करते भारती

Comments

0 Comments

Leave a Comment